Navbharat Times Movie Review

बॉलिवुड में आज भी कई ऐसे फिल्म मेकर हैं , जिन्हें बॉक्स ऑफिस पर फिल्म की कामयाबी - नाकामयाबी से कुछ खासफर्क नहीं पड़ता। संजय की नई फिल्म गुजारिश को भी आप उनकी खामोशी , ब्लैक और सांवरिया जैसी अलग टेस्ट कीफिल्मों की श्रेणी में बेहिचक रख सकते हैं , जिनका गोल सिर्फ बॉक्स ऑफिस कलेक्शन नहीं। लगता है इस कहानी परफिल्म बनाने से पहले ही भंसाली ने दर्शकों की खास क्लास को टारगेट कर लिया था। पूरी फिल्म में आपको ढूंढने पर भीऐसा कोई मसाला नहीं मिलेगा जिसे भंसाली ने दर्शकों की भीड़ बटोरने की चाह में डाला हो। 

गुजारिश गोवा की बैकग्राउंड पर फिल्माई ऐसी कहानी है जिसमें माहौल से लेकर फिल्म का हर किरदार आम मुंबइयाफिल्मों से दूर हटकर है। यही वजह है ऐसी फिल्म को बी - सी क्लास सेंटरों के दर्शकों या मसाला क्लास फिल्में पसंद करनेवालों की पसंद की कसौटी पर रखकर तोला नहीं जा सकता। भंसाली ने फिल्म के माध्यम से एकबार फिर उस बहस कोशुरू करने की कामयाब कोशिश की है जिसे कुछ बरसों में दबा सा दिया गया गया है। इच्छा मृत्यु को लेकर सरकार औरकोर्ट के अंदर और बाहर कई बार लंबी बहस तो हुई लेकिन हर किसी ने इसका सिर्फ एक पक्ष ही देखा। वहीं भंसाली नेअपनी फिल्म के माध्यम से करीब 14 साल से वील चेयर पर दूसरों के सहारे जिंदगी गुजारते एक नौजवान के माध्यम सेइच्छा मृत्यु का सवाल अलग अंदाज में उठाने की पहल की है। बेशक , इस फिल्म के कुछ दृश्य मजेदार है और समाज मेंफैली रूढि़वादी धारणाओं पर व्यंग्य करते हैं लेकिन फिल्म को मिला अलग ट्रीटमेंट इसे बॉलिवुड सिनेमा की क्लास से दूरकरता है। 

कहानी 
गोवा की हरियाली और शांत माहौल के बीच एंथेन मैस्करेनहास ( रितिक रोशन ) अपने घर से एक रेडियो शो होस्टकरता है। अपने ह्यूमर से श्रोताओं में आशा , हंसी , एनर्जी और जादू बिखेरने वाला यह नौजवान खुद वील चेयर के सहारेजिंदगी जी रहा है। करीब 14 साल पहले एक दुर्घटना के बाद एंथेन का नीचे का हिस्सा लकवे का शिकार हो चुका है...
To Read Full review from source click below:
Navbharat Times Movie Review